Zindagi Shayari in Hindi on Samandar Nahi Hun Main

जो कुछ हूँ सामने हूँ, कुछ अंदर नहीं हूं मैं ,
ख़ादिम हूँ क़लंदर का, क़लंदर नहीं हूँ मैं ,
मुझ पर से गुज़र जाइए, ग़ौहर तलाशिए ,
मैं सिर्फ़ एक पुल हूँ, समंदर नहीं हूँ मैं..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *