Love Poem in Hindi on Mere Humsafar

किसी राह में, किसी मोड़ पर,
कहीं चल न देना तू छोड़ कर,
मेरे हमसफ़र, मेरे हमसफ़र,
किसी हाल में, किसी बात पर,
कहीं चल न देना तू छोड़ कर,
मेरे हमसफ़र, मेरे हमसफ़र
मेरा दिल कहे कहीं,
ये न हो नहीं ये न हो..

2 thoughts on “Love Poem in Hindi on Mere Humsafar”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *