Romantic Shayari in Hindi on Mere Humraz Ban Jao

मेरी किसमत के हीरों का तुम इक ताज बन जाओ,
कल की बात छोडो तुम मेरा आज बन जाओ,
मै तो रोज करता हू मुहोब्बत डूब कर तुम से,
मेरी इक बात मानो तुम मेरे हमराज़ बन जाओ..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *