Romantic Hindi Shayari on Sharabi

जाने कभी गुलाब लगती हे
जाने कभी शबाब लगती हे
तेरी आखें ही हमें बहारों का ख्बाब लगती हे
में पिए रहु या न पिए रहु, लड़खड़ाकर ही चलता हु
क्योकि तेरी गली कि हवा ही मुझे शराब लगती हे

3 thoughts on “Romantic Hindi Shayari on Sharabi”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *