Love Poem in Hindi on Tum Apne Apne Lagte Ho

तुम मौसम मौसम लगते हो
जो पल पल रंग बदलते हो..

तुम सावन सावन लगते हो
जो सदियों बाद बरसते हो..

तुम सपना सपना लगते हो
अक्सर ख्वाबों में दिखते हो..

तुम पल पल मुझसे लड़ते हो
पर फिर भी अच्छे लगते हो..

बात तो है शर्मीली सी
पर कहने से दिल डरता है..

लो आज तुम्हें ये कहते हैं
तुम अपने अपने लगते हो..

3 thoughts on “Love Poem in Hindi on Tum Apne Apne Lagte Ho”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *