Dard Bhari Shayari in Hindi on Zidd Na Karo

उलझी शाम को पाने की ज़िद न करो,
जो ना हो अपना उसे अपनाने की ज़िद न करो,
इस समंदर में तूफ़ान बहुत आते है,
इसके साहिल पर घर बनाने की ज़िद न करो..

One thought on “Dard Bhari Shayari in Hindi on Zidd Na Karo”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *