Bachpan Ki Kahaani – Hindi Poem

बचपन की कहानी याद नहीं..!
बातें वो पुरानी याद नहीं..!!
माँ के आँचल का इल्म तो है..!
पर वो नींद रूहानी याद नहीं..!!

छोटी सी बात पे लड़ते थे..!
झूलों पर गिर गिर चढ़ते थे…!!
किसी चोट के अब भी निशाँ तो हैं..!
पर वो चोट पुरानी याद नहीं..!!

ढेरों बच्चे जब आँगन में..!
था शोर-शराबा आँगन में..!!
माँ ने डांटा था चिल्लाकर..!
वो डांट जबानी याद नहीं..!!

कितने किस्से थे दादी के..!
हाथों से खाना दादी के..!!
लाखों नखरे..कितना गुस्सा..!!
वो शर्त पुरानी याद नहीं..!!

पापा से डर जब लगता था..!
उन्हें दूर से देख के भगता था..!!
उस दिन क्यूँ पड़ी थे मार मुझे..!
उस दिन की कहानी याद नहीं..!!

वो बचपन भी क्या दिन थे मेरे..!
न फ़िक्र कोई..न दर्द कोई..!!
बस खेलो, खाओ, सो जाओ..!
बस इसके सिवा कुछ याद नहीं..!

बचपन की कहानी याद नहीं..!
बातें वो पुरानी याद नहीं…!!

9 thoughts on “Bachpan Ki Kahaani – Hindi Poem”

  1. sahi kha apne sayad jai din agar dubara aaa ge mere zindagi mein toh bahut pyar se bitaunga sach pahle na dard tha na hi rona ab toh zindagi bus dukh se gujarti ja rahi hai kuch majboori krba deti hai toh kuch pyar krba deta hai thanks bai bachpan yaad dilane ke liye

  2. sahi kaha aapne. wo bachpan v kya bachpan tha. dard ka chinta, na bukhar ka chinta, nahi maar ka chinta. sirf khel ki chinta padi thi, k kab dost aaye or khelne k liye jayein. kaash bachpan kabhi jawani me na badalta, dukhon ka samna nhi karna padta… bachpan ki un yaadon ko mera salam….

  3. Humari bhi thi ek kahani,
    Humari bi thi ek hasti purani,
    Kandhe pe tha dosto ka hath,
    Saara jamana jeet lete aisa tha yaron ka saath,
    Saath baithkar karte the masti,
    Jab samosa tha 2 rupaye aur chai thi sasti,
    Dosto ke liye kiya bachpan kurban,
    Aaj wo ban bhaithe is dhadkan ki jaan,
    Choti se choti baaton ko dil se lagaya,
    Phir bhi yaaro ne jaate jaate khub hasaya.
    Padhai ka to sirf bahana tha,
    School me to dosto se milne jana tha,
    Marne se pehle ek vada nibhana,
    Meri kabar par kehna…
    “YAAR!! UTH KAL MOVIE DEKHNE TIME PE AANA”.
    Dedicated to my all “FRIENDS”.

  4. Bachpan ki yadin .. bhout khubsurat hoti hai….. .. bina pese ke amir the.. hum .. or kitna v kmalu Sala kam hi par jata hain…. I love you .. zindagi. Jisne hum sabko ek pyara sa bachpan diya..Kash who din phir SE lut aaye..

  5. Great lines, Mujhe apna bachpan yaad aa gaya. Maine ek aise poem or padhi h, kuch lines h:

    अधूरा होमवर्क और स्कूल ना जाने का बहाना,
    पापा का डांटना, और माँ का हमेशा बचाना,

    वो दिन तो दिन थे यार,
    बचपन के दिन थे यार,

    मेहमानों के आने पर माँ के आँचल में छिप जाना,
    धीरे से मुस्कुराना और नजरे चुराना,

    वो दिन तो दिन थे यार,
    बचपन के दिन थे यार,

    Source: http://www.deepanshugahlaut.com/bachpan-ki-yaadein-poem/

  6. ये कबिता वाकई बहुत खूबसूरत है ..
    ..
    .

    दोस्तों वो बचपन का जमाना था,
    अपना ना कोई ठीकाना था,
    सुबह होते ही घर से निकलने का
    कईयों बहाना था,
    खेलने की लिस्ट का ढेरों.तराना था,
    याद ह अभी भीै मुझेे की हमारे घर के पीछे..
    वो घर कितना पुराना था.,
    दोस्तो वो भी क्या बचपन का जमाना था,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *