Zindagi Shayari in Hindi on Apni Uljhan Apne Hal

अपनी उलझन में ही अपनी, मुश्किलों के हल मिले ,
जैसे टेढ़ी मेढ़ी शाखों पर भी रसीले फल मिले ,
उसके खारेपन में भी कोई तो कशिश जरुर होगी,
वर्ना क्यूँ जाकर सागर से यूँ गंगाजल मिले ..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *