Two Line Shayari in Hindi on Mohabbat Bhi Aisi Hai

1. बदन की मज़बूरी है तो सो लेते है ,
वरना साहब दिल को आजकल कहा नींद आती है..

2. आज सड़क पर निकले तो तेरी याद आ गई,
तूने भी इस सिग्नल की तरह रंग बदला था..

3. मोहब्बत भी कटी पतंग जैसी ही है जनाब,
गिरती वहीं है जिसकी छत बड़ी होती है..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *