True Love Shayari on Aaj bhi Pehchaan

जब भी उनकी गली से गुज़रता हूँ;
मेरी आंखें एक दस्तक दे देती हैं;
दुःख ये नहीं, वो दरवाजा बंद कर देते हैं;
खुशी ये है, वो मुझे अब भी पहचान लेते हैं!

2 thoughts on “True Love Shayari on Aaj bhi Pehchaan”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *