Sad Shayari in Hindi on Aitbaar Karke Rona

कभी खुशियों की चाह में रुलाती है ,
कभी दुखों की पनाह में रुलाती है ,
अजीब सिलसिला है ज़िन्दगी का ,
कभी इंतज़ार करके रुलाती है ,
और दिल तब टूट जाता है जब ऐतबार करके रुलाती है..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *