Dosto Shayari in Hindi on Kya Hai Dosti

अभी सूरज नहीं डूबा जरा सी शाम होने दो;
मैं खुद लौट जाऊंगा मुझे नाकाम तो होने दो;
मुझे बदनाम करने का बहाना ढूंढ़ता है जमाना;
मैं खुद हो जाऊंगा बदनाम पहले मेरा नाम तो होने दो।

2 thoughts on “Dosto Shayari in Hindi on Kya Hai Dosti”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *