Zindagi Shayari In Hindi on Bicchhad Gayi

मैं क़तरा क़तरा फ़ना हुयी,
मे ज़र्रा ज़र्रा बिखर गयी,
ऐ ज़िन्दग़ी तुझसे मिलते मिलते,
मैं अपने आप से बिछड़ गयी..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *