Dard Bhari Shayari


साकी पिला रहा है और मैं पिए जा रहा हूँ,
हर सांस पर बस नाम तेरा लिए जा रहा हूँ ,
ख्वाइश तो मरने की है फिर भी जिए जा रहा हूँ,
जो आगाज़ तुम ने किया था मेरी बर्बादिओं का मैं उन्हें अंजाम दिए जा रहा हूँ.

Dosti Shayari

अब हमे कभी तेरा दीदार नसीब ना होगा,
दोसती का रिशता कभी करीब ना होगा,
करोध मे पैदा की हमने जो गलतफहमियां,
शायद हमसे बडा कोई बदनसीब ना होगा..