Poem in Hindi on Dosti

मैं लोगों से मुलाकातों के लम्हें याद रखता हूँ,
मैं बातें भूल भी जाऊं तो लहजे याद रखता हूँ,

सर-ए-महफ़िल निगाहें मुझ पे जिन लोगों की पड़ती हैं,
निगाहों के हवाले से वो चेहरे याद रखता हूँ,

ज़रा सा हट के चलता हूँ ज़माने की रवायत से,
कि जिन पे बोझ मैं डालू वो कंधे याद रखता हूँ,

दोस्ती जिस से कि उसे निभाऊंगा जी जान से,
मैं दोस्ती के हवाले से रिश्ते याद रखता हूँ..

nHindi Poem on Love – Koi Humse Khulkar Na Mila

गम की गलियों में हमें तेरा शहर न मिला
और अपनी खुशी का हमें वो घर न मिला

चांद बुझता रहा सुबह की आहट के बाद
सूरज की रोशनी में भी दिलबर न मिला

मेरी खामोशी में छिपी है जो बेजुबां बनकर
उनसे कुछ कहने का कभी अवसर न मिला

दिल की बातें दिल में ही रह जाती हैं
कोई भी हमसे आज तक खुलकर न मिला

Hindi Poem on Humse Hain Ruthe Vo

वो रूठे है इस कदर, मनाये कैसे,
जज्बात अपने दिल के दिखाए कैसे,
नर्म एहसासों की सिहरन कह रही पास आ जाओ,
सिमट जाओ मुझमें और दिल में समां जाओ..

देखो लौट आओ और ना रूठो हमसे,
बस रह गया है तुम्हारा इन्तेजार कब से,
इतनी भी क्या तकरार हमसे,
इन्तेजार में तेरे दिल बेक़रार कब से..

तुम लड़ना मुझसे, झगड़ना मुझसे,
पर कभी ना दूर रहना मुझसे,
देखो वो सूरज डूब रहा चांदनी लाकर,
फिर ढलती शाम में बढ़ रहा खुमार कब से..

मेरे दिल की ख़ामोशी मेरी वफायें समझों ,
अब क्या कहूँ अपने दिल की सदायें समझों,
वो रूठे है इस कदर , मनाये कैसे,
जज्बात अपने दिल के दिखाए कैसे..

Love Poem in Hindi on Sukhe Patte Ki Tarah

जिस तरह बे मौसम बारिश सूखे पत्तों पे आवाज़ करती है,
तुम आजकल बिन बोले मुझसे इस तरह बात करती हो,
ना पता है तुमको मेरी परेशानी का ना ही मेरे दिल की हालत का,
मैं ऐसा क्यों हो रहा हूँ यह सवाल भी नहीं करती हो,
तुम्हें फ़िक्र रह गयी है अपनी और शायद सिर्फ़ अपनी,
क्यों नहीं इस रिश्ते से निकल कर पहली सी मुलाक़ात करती हो,
बहुत दिन हो गये मुझको दोपहर की नींद से जगाए,
क्यों नहीं मेरे कानो में आकर कोई शरारत वाली बात करती हो,
एक वक़्त था जब हम तुम थे सुख दुख के साथी,
क्यों नहीं तुम मुझको समझा कर एक नयी शुरुआत करती हो,
सूखे पत्तों की खरखराहट सी तुम मुझसे बात करती हो,
मैं बहुत उदास हो जाता हूँ जब तुम मुझसे इस तरह बात करती हो..

Hindi Poem – Jeene Ke Liye Waqt Nahi

हर ख़ुशी है लोंगों के दामन में ,
पर एक हंसी के लिये वक़्त नहीं .
दिन रात दौड़ती दुनिया में ,
ज़िन्दगी के लिये ही वक़्त नहीं .

सारे रिश्तों को तो हम मार चुके,
अब उन्हें दफ़नाने का भी वक़्त नहीं ..
सारे नाम मोबाइल में हैं ,
पर दोस्ती के लिये वक़्त नहीं .

गैरों की क्या बात करें ,
जब अपनों के लिये ही वक़्त नहीं .
आखों में है नींद भरी ,
पर सोने का वक़्त नहीं .

दिल है ग़मो से भरा हुआ ,
पर रोने का भी वक़्त नहीं .
पैसों की दौड़ में ऐसे दौड़े,
की थकने का भी वक़्त नहीं .

पराये एहसानों की क्या कद्र करें ,
जब अपने सपनों के लिये ही वक़्त नहीं
तू ही बता ऐ ज़िन्दगी ,
इस ज़िन्दगी का क्या होगा,
की हर पल मरने वालों को ,
जीने के लिये भी वक़्त नहीं..