Love Shayari in Hindi on Bina Bole

हम भी है कुछ अधूरे से तेरे बिना
इतना की अलफ़ाज़ में नही बोल सकते
बिना बोले समझ जाती है तू मुझे
इसी सुकून से जी रहा हु आज भी यहा।।

7 thoughts on “Love Shayari in Hindi on Bina Bole”

  1. वह जिंदगी को अपनी बदलते चले गए
    नित्य नए रास्तों पर उलझते चले गए।
    साथ लेने का किसी को वक्त आया तो
    अपने और परायों को समझते चले गए।।

  2. ‪#‎एक‬ ही ‪#‎ख्वाब‬ देखा है कई बार ‪#‎मैने‬,
    की ‪#‎तेरी‬ साड़ी में उलझी है ‪#‎चाबियाँ‬ मेरे घर की !!

  3. हमारे तो दामन मे काँटो के सिवा कुछ नहीं,
    आप तो फूलों के खरीदार नजर आते हो,
    जहा मे कितने दोस्त मिले,
    पर सबसे अच्छे तो आप नजर आते हो..

  4. dard ki hr ek hd se guzar gaya hu m…kbhi na simtunga yu bikhr gaya hu….maut ni aati ruh k niklne se zeeshan…..aaj sans zinda h phir b mr gaya hu m

  5. DARD KI HR EK HD SE GUJAR GAYA HU M……KBHI NA SIMTUNGA YU BIKHAR GAYA HU M…MAUT NI AATI RUH K NIKLNE SE….ZEESHAN….AJJ SANS ZINDA H PHIR B MR GAYA HU M

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *