Dard Bhari Shayari in Hindi on Zakhm de gaya

था कोई जो मेरे दिल को ज़ख्म दे गया ,
ज़िन्दगी भर रोने की कसम दे गया,
लाखों फूलों में से एक फूल चुना था मैंने,
जो काटों से भी गहरा ज़ख्म दे गया..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *