Dard Bhari Shayari in Hindi on Khamosh Fiza

ख़ामोश फ़ज़ा थी कहीं साया भी नहीं था,
इस शहर में हमसा कोई तनहा भी नहीं था,
किस जुर्म पे छीनी गयी मुझसे मेरी हँसी,
मैंने किसी का दिल तो दुखाया भी नहीं था..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *