Bewafa Shayari in Hindi on Bujh Gaye Jalte Diye

मुझे को अब तुझ से भी मोहब्बत नहीं रही,
ऐ ज़िंदगी तेरी भी मुझे ज़रूरत नहीं रही,
बुझ गये अब उस के इंतेज़ार के वो जलते दिए,
कहीं भी आस-पास उस की आहट नहीं रही..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *