Hindi Poem on Bewafa Aashiq

मेरी जिंदगी को तमाशा बना दिया उसने,
भरी महफ़िल में तनहा बिठा दिया उसने,
ऐसी क्या थी नफरत उसको इस मासूम दिल से,
खुशियाँ चुराकर गम थमा दिया उसने,
बहुत नाज़ था उसकी वफ़ा पर कभी हमको,
मुझको ही मेरी नज़रों में गिरा दिया उसने,
खुद बेवफा था मेरी वफ़ा की क्या कदर करता,
अनमोल थी मै और खाक में में मिला दिया उसने..

Hindi Poem on Zindagi Ka Phalsafa

खवाहिश नही मुझे मशहुर होने की,
आप मुझे पहचानते हो बस इतना ही काफी है,
अच्छे ने अच्छा और बुरे ने बुरा जाना मुझे,
क्यों की जीसकी जीतनी जरुरत थी उसने उतना ही पहचाना मुझे,
ज़िन्दगी का फ़लसफ़ा भी कितना अजीब है,
शामें कटती नहीं, और साल गुज़रते चले जा रहे हैं,
एक अजीब सी दौड़ है ये ज़िन्दगी,
जीत जाओ तो कई अपने पीछे छूट जाते हैं,
और हार जाओ तो अपने ही पीछे छोड़ जाते हैं..

Love Poem in Hindi on Tumhe Khushiyan De Jaun

तेरी एक हँसी पे ये दिल कुर्बान कर जाऊँ,
ऐतराज ना हो अगर तो तेरा दिल चुरा ले जाऊँ,
ना बहने दुँ कभी इन आँखों से आँसू,
तु कहे तो तेरे सारे सितम सह जाऊँ,
हँसता हुआ रखूँ तेरे लबों को हमेशा,
छू कर जिन्हें वो प्यारी मुस्कान दे जाऊँ,
दिल से लगा के रखूँ तुम्हें,
मन तो करता है तुम्ही में खो जाऊँ,
सुनता ही रहूँ तुम्हारी धड़कनों को,
और अपने दिल की हर बात कह जाऊँ,
गम को कभी करीब ना आने दूँ,
और तुम्हें जिन्दगी की खुशीयाँ तमाम दे जाऊँ..

Hindi Poem on Ae Parinde

ऐ परिंदे….!!
यूँ ज़मीं पर बैठकर क्यों आसमान देखता है,
पंखों को खोल,क्योंकि ज़माना सिर्फ़ उड़ान देखता है,
लहरों की तो फ़ितरत ही है शोर मचाने की,
लेकिन मंज़िल उसी की होती है जो नज़रों से तूफ़ान देखता है..

Hindi Poem on Vo Bachpan Suhana Tha

एक बचपन का जमाना था,जिसमें खुशियों का खजाना था,
चाहत चाँद को पाने की थी,पर दिल तितली का दिवाना था,
खबर ना थी कुछ सुबहा की,ना शाम का ठिकाना था,
थक कर आना स्कूल से,पर खेलने भी जाना था,
माँ की कहानी थी,परीयों का फसाना था,
बारीश में कागज की नाव थी,हर मौसम सुहाना था..