Love Poem in Hindi on Tere Jaisa Yaar

दूर दूर रह कर भी हम कितने करीब हैं,
हमारा रिश्ता भी जाने कितना अजीब है,
बिन देखे ही तेरा यूँ मोहब्बत करना मुझसे,
बस तेरी यही चाहत ही तो मेरा नसीब है,
पर जिसे प्यार ही ना मिला हो किसी का,
वो बदकिस्मत भी यहाँ कितना गरीब है,
और जिसे मिल गया हो तेरे जैसा यार यहाँ,
वो शख्स भी मेरे जैसा ही खुशनसीब है..

Love Poem in Hindi on Jisne Ki Mohabbat

जिसने भी की मुहब्बत, रोया जरूर होगा।
वो याद में किसी के खोया जरूर होगा।

दिवार के सहारे, घुटनों में सिर छिपाकर ,
वो ख्याल में किसी के खोया जरुर होगा।

आँखों में आंसुओ के, आने के बाद उसने,
धीरे से उसको उसने, पोंछा जरुर होगा।

जिसने भी की मुहब्बत, रोया जरूर होगा।

Love Poem in Hindi on Mere Humsafar

किसी राह में, किसी मोड़ पर,
कहीं चल न देना तू छोड़ कर,
मेरे हमसफ़र, मेरे हमसफ़र,
किसी हाल में, किसी बात पर,
कहीं चल न देना तू छोड़ कर,
मेरे हमसफ़र, मेरे हमसफ़र
मेरा दिल कहे कहीं,
ये न हो नहीं ये न हो..

Zindagi Poem In Hindi

समंदर सारे शराब होते तो सोचो कितना बवाल होता,
हक़ीक़त सारे ख़्वाब होते तो सोचो कितना बवाल होता..

किसी के दिल में क्या छुपा है ये बस ख़ुदा ही जानता है,
दिल अगर बेनक़ाब होते तो सोचो कितना बवाल होता..

थी ख़ामोशी हमारी फितरत में तभी तो बरसो निभ गयी लोगो से,
अगर मुँह में हमारे जवाब होते तो सोचो कितना बवाल होता..

हम तो अच्छे थे पर लोगो की नज़र में सदा बुरे ही रहे,
कहीं हम सच में ख़राब होते तो सोचो कितना बवाल होता..

Hindi Poem – Mohtaj Nahi

लोग होठों पे सजाये हुए फिरते हैं मुझे,
मेरी शोहरत किसी अखबार की मोहताज नहीं,
इसे तूफ़ान ही किनारे से लगा सकता है,
मेरी कश्ती किसी पतवार की मोहताज नहीं,
मैंने मुल्कों की तरह लोगों के दिल जीते हैं,
ये हुकूमत किसी तलवार की मोहताज नहीं..